Home / Featured / उपन्यास मंजरी का डीजीपी अशोक कुमार ने किया लोकार्पण
उपन्यास मंजरी का डीजीपी अशोक कुमार ने किया लोकार्पण

उपन्यास मंजरी का डीजीपी अशोक कुमार ने किया लोकार्पण

देहरादून

उपन्यास मंजरी पाठकों के बीच पहुंच गया। प्रिंस हनी रेस्टोरेंट धर्मपुर देहरादून में आयोजित समारोह में मुख्य अतिथि डीजीपी अशोक कुमार, विशिष्ट अतिथि अपर निदेशक सीमेट शशि चौधरी, धाद के संस्थापक लोकेश नवानी, साहित्यकार बीना कंडारी और अलकनंदा अशोक ने इसका लोकार्पण किया।

कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों के दीप प्रज्वलन और शांति बिंजोला की गढ़वाली वंदना ‘दैंणा होइयां खोली का गणेश से हुई। मुख्य अतिथि डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि मंजरी स्त्री विमर्श पर आधारित सशक्त उपन्यास है। उपन्यास के पात्रों के नाम से लेकर उसका कथ्य आकर्षित करता है। सजवान का यह उपन्यास पाठकों को निसंदेह पसंद आएगा। उन्होंने कहा कि लेखन स्वंतः सुखाय के लिए भी होता है और समाज को दिशा देने के लिए भी। मंजरी समाज को दिशा देने का काम करेगा।

विशिष्ट अतिथि शशि चौधरी ने कहा कि पिछले 45 सालों में स्त्री को लेकर और स्त्री में बहुत परिवर्तन आया है। स्त्री के लिए यह सुखद है। वर्तमान में ऐसा कोई क्षेत्र नहीं है जहां स्त्री की सशक्त मौजूदगी न हो। प्रेमलता सजवान का उपन्यास मंजरी इस कड़ी को आगे बढ़ाते हुए आस जगाता है। शिक्षण के साथ साहित्य लेखन में जिस तरह परिपक्वता के साथ आगे बढ़ रही हैं वह सराहनीय है।

कार्यक्रम के अध्यक्ष लोकेश नवानी ने कहा कि स्त्रियों का लंबे समय से शोषण होता रहा। स्त्री, स्त्री नहीं मनुष्य है। वह भी सब कुछ कर सकती है जो पुरुष कर सकता है। लेकिन, पुरुष का सबसे बड़ा अपराध यह रहा कि उसने लड़की को पढ़ने नहीं दिया। वर्तमान में स्थितियां बदली हैं। आने वाला समय स्त्रियों का स्वर्ण यह है। उन्होंने कहा कि जब कभी भी सुंदर दुनिया बनेगी वह बिना स्त्री के सहयोग से नहीं बन सकती। पुस्तक की समीक्षा धाद लोकभाषा एकांश की अध्यक्ष बीना कंडारी ने की। जबकि, संचालन वरिष्ठ साहित्यकार बीना बेंज्वाल ने किया। इस अवसर अरुण सजवाण,कैलास नेगी,मंजू नेगी, मधुर वादिनी तिवारी, रमाकांत बेंजवाल, सम्पति देवी,शांति प्रकाश जिज्ञासु, वीरेन्द्र डंगवाल पार्थ, सुरेश स्नेही, हरीश कंडवाल, अखिल सजवाण, निखिल सजवाण, तुषार नेगी, कांता घिल्डियाल आदि मौजूद रहे।

साहित्यकारों को भी
इस मोके पर किया गया सम्मानित। लोकार्पण समारोह में साहित्यकार रमाकांत बैंजवाल, वीरेन्द्र डंगवाल “पार्थ”, शांति प्रकाश जिज्ञासु,लक्ष्मण रावत और सुरेश स्नेही को सम्मानित किया गया।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top