Breaking News
Home / उत्तराखंड / दुःखद..शिक्षाविद, ब्राइटलैंड के मालिक रविनारंग की अंतिम यात्रा आज लगभग 10 बजे देहरादुन के लक्खीबाग को निकलेगी
दुःखद..शिक्षाविद, ब्राइटलैंड के मालिक रविनारंग की अंतिम यात्रा आज लगभग 10 बजे देहरादुन के लक्खीबाग को निकलेगी

दुःखद..शिक्षाविद, ब्राइटलैंड के मालिक रविनारंग की अंतिम यात्रा आज लगभग 10 बजे देहरादुन के लक्खीबाग को निकलेगी

देहरादून

उत्तराखण्ड के प्रसिद्ध शिक्षाविद रविनारंग कि अंत्येष्टि आज देहरादुन में

जानकारी के अनुसार सोमवार को दोपहर बाद इनकी म्रत्यु हो गयी थी। लगभग 3 से 4 बजे के बीच ये अंकोंशियस थे ,तूरन्त ही निजी अस्पताल के फैमिली डॉक्टर की सलाह पर इनको फोर्टिस ले जाया गया। वहां डॉक्टर ने इनकी म्रत्यु की घोषणा कर दी थी। इसके बाद इनको इनके कर्जन रोड डालनवाला स्थित स्कूल के आवास पर रखा गया था ।इनकी दूसरी बहन के विदेश से आ जाने के बाद ही इनकी अंतिम यात्रा वीरवार के लिए तय किया गया।आज लगभग 10 बजे देहरादुन के लक्खी बाग के लिए अंतिम यात्रा निकलेगी।

पिछले चार दिन से लगातार स्कूल स्थित इनके आवास पर रविनारंग के चाहने वालो का तांता लगा हुआ है।
शिक्षाविद रवि नारंग ब्राइटलैंड पब्लिक स्कूल के मालिक थे। 1958 में खुले इस स्कूल को प्राइमरी स्कूल के रूप आज शिक्षा जगत में विशेष स्थान प्राप्त है। आज ICSC, ISC स्कूलो के रिजल्ट में टॉप पर इसके बच्चे आते हैं। जिसकी वजह से आज ब्राइटलैंड स्कूल उत्तराखण्ड क्या पूरे देश दुनिया मे जाना माना नाम है। खुद रवि नारंग ने शिक्षा के क्षेत्र में अपना अलग मुकाम बनाया है। उनकी खासियत थी कि वे बहुत कम लोगो से मिलते थे मगर जिससे भी मिलते थे उसको अपना मुरीद बना लेते थे।उनका स्कूल में काम करने का अंदाज ही अलग था। ऐसे ही उन्होंने अपना जीने का अंदाज भी दुनिया से अलग ही रखा। जीवन पर्यन्त ये अकेले ही रहे।दो बहनों के अकेले भाई रवि नारंग की एक बहन विदेश में ओर एक देहरादुन में हैं। IAS,IPS,IFS हो या बड़े से बड़े राजनीतिज्ञ सभी अपने बच्चो को लेकर इनके स्कूल में एडमिशन के लिए लालायित रहते थे। इनके शिक्षा के प्रति जबरदस्त लगाव ने स्कूल को शिक्षा नगरी कहे जाने वाले देहरादून में भी अलग पहचान दिलवाई।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top