Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / लूट का नया फंडा…500 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरों की मदद से टूटा,ज्वेलर की लूट का तिलस्म,पूरी वारदात में फोन कॉल हुई ही नही
लूट का नया फंडा…500 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरों की मदद से टूटा,ज्वेलर की लूट का तिलस्म,पूरी वारदात में फोन कॉल हुई ही नही

लूट का नया फंडा…500 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरों की मदद से टूटा,ज्वेलर की लूट का तिलस्म,पूरी वारदात में फोन कॉल हुई ही नही

देहरादून

खुलासा ..प्रदेश की राजधानी में बेखोफ 4 बदमाशो ने की बड़ी वारदात चार बाइक सवारों ने लूटा ज्वैलर को,2 गिरफ्तार

22 सितम्बर की रात थाना पटेलनगर को कंट्रोल रूम के माध्यम से सूचना प्राप्त हुई कि ब्लेसिंग फार्म दुर्गा डेरी के पास दो अज्ञात मोटर साइकिल सवार व्यक्ति एक अन्य मोटर साइकिल सवार व्यक्ति (सुनार) को गोली मारकर उसका बैग छीनकर भाग गये हैं। सूचना से तत्काल पुलिस बल मौके पर पहुचा तथा मौके पर उपस्थित लोगो की सहायता से घायल व्यक्ति को उपचार हेतु इन्द्रेश अस्पताल ले जाया गया। घटना के सम्बन्ध में पीडित व्यक्ति के चचेरे भाई शफीकुल इस्लाम पुत्र रियाजुल इस्लाम निवासी गली ने मुकद्दमा लिखवाया। घटना की गम्भीरता के दृष्टिगत DIG/SSP देहरादून द्वारा घटनास्थल पर पहुंचकर घटना के सम्बन्ध में जानकारी ली गयी तथा घटना के अनावरण हेतु आवश्यक दिशा-निदेश निर्गत किये गये। घटना तथा अभियुक्तों के हुलिये के सम्बन्ध में पीडित तथा आसपास के लोगों से जानकारी प्राप्त कर सदिंग्ध व्यक्तियों की तलाश हेतु सघन चैकिंग प्रारम्भ कराई गयी। घटना के अनावरण हेतु DIG/SSP टीमें गठित की गयी, जिसमें से एक टीम द्वारा सुनार के घर वालों व उसके सम्पर्क में आये व्यक्तियो के सम्बन्ध में जानकारी एकत्रित की गयी, दूसरी टीम द्वारा पूर्व में इस प्रकार की घटनाओं में संलिप्त रहे अपराधियो के सत्यापन व उनकी वर्तमान स्थिती तथा गतिविधियों के सम्बन्ध में जानकारी एकत्रित की गयी, तीसरी टीम द्वारा घटना के बाद अभियुक्तों के भागने के सम्भावित रूटों की सीसीटीवी फुटेज एकत्रित किये गये तथा चैथी टीम द्वारा अभियुक्तों के घटना से पूर्व आने के सम्भावित रूटों के सम्बन्ध में जानकारी एकत्रित की गयी। घटना के तुरन्त बाद ही जनपद के समस्त अन्तर्जनपदीय/अन्र्तराज्यीय बैरियरांे को जीरो डाउन करते हुए जनपद से बाहर जाने वाले वाहनांे को पूरी तरह से रोक दिया गया तथा शहर भर में प्रत्येक वाहन की सघन चैकिंग की गयी। घटना के बाद घटनास्थल के आसपास व सम्भावित रूटों की सीसीटीवी फुटेज चैक करने पर अंधेरा होने के कारण अभियुक्तों के सम्बन्ध में कोई खास जानकारी नहीं हो पायी। जिस पर पुलिस टीम द्वारा घटनास्थल से बैक रूट के कैमरे चैक करते हुए अभियुक्तों के घटनास्थल तक पहुंचने के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की तो जीएमएस रोड स्थित सुनार की दुकान के पास के सीसीटीवी फुटेज में घटना से पूर्व समय लगभग 8 बजे दो बाइकों पर सवार 4 संदिग्ध व्यक्ति हैलमेट पहने हुए थे, सुनार की दुकान का चक्कर लगाते हुए दिखाई दिये। उक्त सीसीटीवी कैमरे से प्राप्त संदिग्ध व्यक्तियों के हुलिये व संदिग्ध मोटरसाइकिलों के आने के रूट की जानकारी प्राप्त करने पर उक्त मोटर साइकिलें सेलाकुई से पण्डितवाडी होते हुए बल्लीवाला चैक तक आती हुई दिखाई दी, परन्तु सेलाकुई से पूर्व की सीसीटीवी फुटेज के अवलोकन करने पर वह सहसपुर रूट पर नहीं दिखाई दीं। जिस पर पुलिस टीम द्वारा उक्त हुलिये से मिलते जुलते व्यक्तियो के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की गयी तो सहसपुर क्षेत्र में शाम के समय उक्त व्यक्ति आते हुए दिखाई दिये। जिससे सम्भावना प्रतीत हुई कि उक्त व्यक्ति घटना को अजांम देने से पूर्व सहसपुर तथा सेलाकुई के मध्य किसी स्थान पर 02 से 03 घंटे के लिये रूके थे। जिस पर पुलिस टीम द्वारा उनके आने के रूट के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करने के लिये धर्मावाला,केअलावा पुलिस टीम ने अभियुक्तों के जंगल के रास्ते से होते हुए जनपद में प्रवेश करने की सम्भावना के दृष्टिगत हथिनीकुण्ड बैराज खारा पावर हाउस स्थित सीसीटीवी कैमरे की फुटेज चैक की गयी तो वह उक्त रास्ते से आते दिखाई दिये, आगे के रूट के सीसीटीवी फुटेज चैक करने पर मुख्य मार्ग पर कई स्थानांे पर मुख्य मार्ग से जुडने वाले कई रास्ते पुलिस टीम को दिखे जिससे अभियुक्तों के आने के रूट की सही जानकारी करना काफी मुश्किल हो गया था। परन्तु पुलिस टीम द्वारा उक्त रूट के लगभग 500 सीसीटीवी कैमरों की फुटेजों को चैक किया गया, जिसमें अन्ततः पुलिस को थाना भवन के पास जलालाबाद कस्बे की एक सीसीटीवी फुटेज प्राप्त हुई जिसमें उक्त संदिग्ध व्यक्ति एक मैकेनिक की दुकान में लगभग 2 से 3 घण्टे तक बिना हैलमेट के खडे दिखाई दिये। सीसीटीवी फुटेज में अभियुक्तों के हावभाव व उनकी गतिविधियों से यह प्रतीत हो रहा था कि अभियुक्त उक्त स्थान से भली भांति वाकिफ हैं तथा सम्भवत: उसी कस्बे के रहने वाले हो सकते हैं, क्योंकि उनके द्वारा उसके आगे के रूट में देहरादून आते समय कहीं पर भी हैलमेट उतारा नहीं गया था। जिस पर पुलिस टीम द्वारा जलालाबाद व उसके आसपास के क्षेत्र तथा आसपास के अन्य जनपदों में सक्रिय अपराधियों व इस तरह के अपराधिक कृत्यों में संलिप्त व्यक्तियों तथा वर्तमान में जेल से बाहर चल रहे अपराधियांे की वर्तमान स्थिती की जानकारी व उनके फोटो प्राप्त किये गये तथा स्थानीय सम्पर्क सूत्रांे के माध्यम से उक्त समयावधि के दौरान सीसीटीवी फुटेज मंे दिखने वाले तथा कस्बे में आने जाने वाले लोगों की गतिविधियांे के सम्बन्ध में जानकारी एकत्रित कर लगभग 350 से 400 व्यक्तियों की सूची तैयार की गयी। उक्त सूची का गहनता से अवलोकन कर सूची में नामजद व्यक्तियों की गतिविधियों की जानकारी तथा प्राप्त फोटो से संदिग्ध हुलिये के व्यक्तियों का मिलान करने पर उनके हुलिये फैजल चौधरी निवासी मुजफ्फरनगर, नईम निवासी सहारनपुर, नदीम निवासी बुलंदशहर तथा राहुल शर्मा उर्फ राहुल पण्डित निवासी बुलंदशहर से मेल खाते हुए प्रतीत हुए। जिस पर उक्त चारों अभियुक्तों के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की गयी तो ज्ञात हुई कि फैजल तथा राहुल पण्डित उत्तर प्रदेश तथा दिल्ली मंे सक्रिय अपराधी हैं तथा इनके द्वारा पूर्व में लूट व डकैती की कई घटनाओं को अंजाम दिया गया है। उक्त अभियुक्तों के सम्बन्ध में इलैक्ट्रानिक सर्विलांस के माध्यम से जानकारी करने परघटना के दिन उक्त चारों अभियुक्तों के मोबाइलांे की लोकेशन उनके निवास स्थानों मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर तथा दिल्ली पर होनी पायी गयी। सीसीटीवी फुटेज से प्राप्त अभियुक्तों के हुलिये हालांकि उनकी फोटो से मेल खा रहे थे, लेकिन फुटेज में अभियुक्तों के हुलिये में स्पष्टता नहीं थी तथा घटना के दिन अभियुक्तों के मोबाइलों की लोकेशन भी उनके निवास स्थान पर होनी पायी गयी, जिससे पुलिस टीम को हताशा हाथ लगी तथा पुलिस टीम द्वारा पुनः उक्त सूची में वर्णित व्यक्तियो के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करते हुए संदिग्ध व्यक्तियों की छटनी की गयी तथा उनके सम्बन्ध में स्थानीय मुखबिर तंत्र से गहनता से जानकारी ली गयी तो उक्त चारो व्यक्तियों के ही नाम पुनः प्रकाश में आये।जिस पर पुलिस टीम द्वारा इलेक्ट्रानिक सर्विलांस के माध्यम से अभियुक्तों के मोबाइल नम्बरों के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करते हुए उनका गहनता से विश्लेषण किया गया तो कुछ चैकाने वाले तथ्य प्रकाश में आये।

1: घटना के दिन अभियुक्तों के मोबाइल फोन तो ऑन थे पर केवल मैसजों का आदान प्रदान हो रहा था। कोई इनकमिंग या आउट गोइंग काल नहीं थी।
2: अभियुक्तों के मोबाइल नम्बरों की जानकारी में कुछ ऐसे सम्पर्क नम्बर प्राप्त हुए जिन पर उन नम्बरों से लगातार काल किये जाते थे, ऐसे नम्बरों की सूची तैयार कर उनके सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करने पर घटना के दिन उसी समयावधि में जब अभियुक्त जलालाबाद में मौजूद थे, उक्त नम्बरो पर जलालाबाद के कुछ नम्बरों से काल किया जाना प्रकाश में आया, जिससे पूर्व में उक्त नम्बरों पर कभी काल नहीं की गयी थी। पुलिस द्वारा ऐसे नम्बरों की सूची तैयार की गयी।
3.. उक्त नम्बरों को तस्दीक करने पर नम्बर धारक व्यक्तियों द्वारा बताया गया कि अज्ञात व्यक्तियों द्वारा अपने फोन के काम न करने की बात कहकर जरूरी बात करने हेतु उनसे फोन मांगकर उक्त कालों को किया गया है।
4: नम्बरो की तस्दीक करने के दौरान उनमें से एक मोबाइल नम्बर उसी मैकेनिक का होना प्रकाश में आया जिसकी दुकान पर संदिग्ध अभियुक्तों की सीसीटीवी फुटेज प्राप्त हुई थी। जिस पर पुलिस टीम को पूर्ण अंदेशा हो गया कि उक्त अभियुक्त शातिर किस्म के अपराधी हैं जो घटना के समय मोबाइल फोन का इस्तेमाल नहीं करते हैं तथा अपने मोबाइल फोनों को घटना के समय अपने घरों पर ही छोडकर आते हैं, जिससे उनकी लोकेशन को कोई ट्रेस न कर सके तथा घटना से पूर्व या घटना के समय अपने परिजनों व अन्य परिचितों से सम्पर्क करने के लिये राह चलते किसी भी व्यक्ति का मोबाइल इस्तेमाल करते हैं। अभियुक्तों के सम्बन्ध में प्राप्त उक्त जानकारी से स्पष्ट हो गया था कि, इन्ही लोगों द्वारा उक्त लूट की घटना को अंजाम दिया गया है। जिस पर पुलिस टीम द्वारा अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु स्थानीय मुखबिर तंत्र को सक्रिय करते हुए सर्विलांस के माध्यम से अभियुक्तों के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की गयी तो अभियुक्त फैजल तथा नईम के सहारनपुर, अभियुक्त नदीम के बुलन्दशहर तथा अभियुक्त राहुल शर्मा उर्फ राहुल पण्डित के दिल्ली में होने की जानकारी प्राप्त हुई, जिस पर तत्काल तीन अलग-अलग पुलिस टीमें गठित कर अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु सम्भावित स्थानों को रवाना की गयी। उनि धर्मेन्द्र रौतेला तथा उ0नि0दिलबर सिंह नेगी के नेतृत्व में गठित टीम द्वारा बुलन्दशहर पहुंचकर अभियुक्त नदीम के सम्बन्ध में गोपनीय रूप से जानकारी प्राप्त की तथा स्थानीय मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया जिस पर मुखबिर द्वारा पुलिस टीम को अवगत कराया गया कि अभियुक्त नदीम वर्तमान में अपने घर पर ही है तथा लूट में अपने हिस्से आयी ज्वैलरी को बेचने के लिये अपनी ससुराल जा रहा है। जिस पर पुलिस टीम द्वारा बैकअप टीम को बुलाते हुए 1अक्टूबर को रात्रि समय लगभग 8 बजे अभियुक्त नदीम को गुलावटी फ्लाईओवर के पास से गिरफ्तार किया गया तथा उनि नरेश राठौड के नेतृत्व में गठित टीम द्वारा अभियुक्त राहुल शर्मा उर्फ राहुल पण्डित को मुखबिर की सूचना पर शहादरा क्षेत्र दिल्ली से गिरफ्तार किया गया। दोनो अभियुक्तों के कब्जे से घटना में लूटी गयी ज्वैलरी, नगदी व अन्य सामान बरामद किया गया। अभियुक्त नदीम की निशानदेही पर पुलिस टीम द्वारा पलवल रोड शमशान घाट के पास से घटना में प्रयुक्त आर-15 मोटर साइकिल बरामद की गयी।

गिरफ्तार अभियुक्त

1..राहुल शर्मा उर्फ राहुल पण्डित पुत्र कैलाश चन्द्र शर्मा निवासी: वैद्य जी वाली गली, साठा बाजार बुलन्दशहर उम्र 32 वर्ष
2..नदीम पुत्र मतीन निवासी: मौ0 शेखपारा थाना व कस्बा सिकन्दराबाद बुलन्दशहर उम्र 26 वर्ष
वांछित अभियुक्त
1..: नईम पुत्र शराफत निवासीः बाजोरिया रोड, घोघरेकी सहारनपुर उम्र 24 वर्ष
2..फैजल चौधरी पुत्र मौ0 अनीस निवासी: 829/5 खालापार, योगेन्द्रपुरी (रामपुरम) थाना कोतवाली नगर, मुजफ्फरनगर, उम्र 24 वर्ष

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top