Home / Featured / फिर से एक बार TSR,तीर्थ सिंह रावत बनेंगे उत्तराखंड के 10 वें सीएम,
फिर से एक बार TSR,तीर्थ सिंह रावत बनेंगे उत्तराखंड के 10 वें सीएम,

फिर से एक बार TSR,तीर्थ सिंह रावत बनेंगे उत्तराखंड के 10 वें सीएम,

देहरादून

उत्तराखण्ड की राजधानी में चले सीएम को बदलने की प्रक्रिया को विराम मिल गया। केंद्रीय नेतृत्व ने तीर्थ सिंह रावत पर अपना भरोसा जताया। देहरादून में भाजपा के प्रदेश कार्यालय में चली विधानमंडल की बैठक में तीरथ सिंह रावत के नाम पर मंथन के बाद उत्तराखंड के सीएम के लिए मोहर लग गई।

हालांकि राज्यपाल से मुलाकात के बाद सम्भवतया शाम को 4 बजे तक शपथ ले ली जाएगी।

उत्तराखंड में त्रिवेंद्र सिंह रावत के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे के बाद देहरादून में भाजपा के प्रदेश कार्यालय में चली विधानमंडल की बैठक में तीरथ सिंह रावत के नाम पर उत्तराखंड के सीएम के लिए मोहर लगा दी गई।

गौरतलब है कि तीरथ सिंह रावत राज्य के दसवें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे, हालांकि मुख्यमंत्री के रूप में ये राज्य को नवां चेहरा मिला है। तीरथ सिंह रावत पौड़ी संसदीय सीट से लोकसभा सदस्य भी हैं।
भाजपा कार्यालय में सुबह 10 बजे शुरू हुई विधानमंडल की बैठक दल की बैठक समाप्त होने के बाद कार्यवाहक सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पत्रकारों को तीरथ सिंह रावत के चयन की जानकारी मंच से दी।


इस मौके ओर छतीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह पर्यवेक्षक केरूप में मौजूद थे उनके साथ प्रदेश प्रभारी दुशयन्त गौतम,सह प्रभारी रेखा वर्मा के साथ केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक,प्रदेश अध्यक्ष वंशीधर भगत मंच पर मौजूद रहे।
बैठक में सभी विधायक,केबिनेट मिनिस्टर,राज्य मंत्री आदि मौजूद थे। मदन कौशिक मंच संचालन कर रहे थे।
अपने सम्बोधन में उन्होंने त्रिवेंद्र रावत के मुख्यमंत्री रहते हुए जिन कामो को किया उनको आगे बढ़ाने के साथ ही सभी के साथ मिलजुल कर काम करने की बात कही।
बताते चले कि तीरथ सिंह रावत भारतीय भारतीय जनता पार्टी की वर्ष 2000 में नवगठित उत्तराखण्ड के प्रथम शिक्षा मंत्री रहे। इसके बाद 2007 में भारतीय जनता पार्टी उत्तराखण्ड के प्रदेश महामंत्री चुने गए तत्पश्चात प्रदेश चुनाव अधिकारी तथा प्रदेश सदस्यता प्रमुख रहे। 2013 उत्तराखण्ड दैवीय आपदा प्रबंधन सलाहकार समिति के अध्यक्ष रहे। वर्ष 2012 में चौबटाखाल विधान सभा से विधायक निर्वाचित हुए और वर्ष 2013 में उत्तराखण्ड भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बने।

हालांकि वर्ष 1983 से 1988 तक राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रचारक रहे, 1997 में उत्तर प्रदेश विधान परिषद् के सदस्य निर्वाचित हुए तथा विधान परिषद् में विनिश्चय संकलन समिति के अध्यक्ष बनाये गए। रावत को पौड़ी सीट से भारत के 17 वें लोकसभा चुनाव में बीजेपी की तरफ से प्रत्याशी बनाया गया था,जिसमें वे भारी मतों से विजयी हुए। इन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस के मनीष खंडूड़ी को 2,85,003 से अधिक मतों से हराया था।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top