Breaking News
Home / इंडिया / सोशल मीडिया के बढ़ता प्रचलन दो धारी तलवार जिसके लाभ तो हैं ही हानि भी कुछ कम नही….डीजीपी अनिल के.रतूड़ी
सोशल मीडिया के बढ़ता प्रचलन दो धारी तलवार जिसके लाभ तो हैं ही हानि भी कुछ कम नही….डीजीपी अनिल के.रतूड़ी

सोशल मीडिया के बढ़ता प्रचलन दो धारी तलवार जिसके लाभ तो हैं ही हानि भी कुछ कम नही….डीजीपी अनिल के.रतूड़ी

 

गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा 21 अक्टूबर को Police Flag Day एवं 31अक्टूबर को राष्ट्रीय एकता दिवस तथा 21 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक Commemorative events अंतर्गत पुलिस मुख्यालय सभागार, देहरादून में “USING ONLINE SOCIAL MEDIA FOR NATIONAL SECURITY” विषय पर एक वेबिनार आयोजित किया गया, जिसका उद्घाटन अनिल के. रतूड़ी, पुलिस महानिदेशक, उत्तराखण्ड द्वारा किया गया। पुलिस महानिदेशक, उत्तराखण्ड द्वारा अपने वकतव्य में सोशल मीडिया के बढ़ते प्रचलन को दो धारी तलवार बताते हुए इसके लाभ एवं हानियों के सम्बन्ध में जानकारी दी गई। उनके द्वारा बताया गया कि वर्तमान सुरक्षा परिदृश्य में सोशल मीडिया पर असामाजिक तत्वों के कारण देश की आंतरिक सुरक्षा (Internal Security) एवं बाह्य सुरक्षा (External Security) में भेद करना मुश्किल हो गया है। पुलिस द्वारा सोशल मीडिया पर होने वाले आपत्तिजनक, भ्रामक, साम्प्रदायिक, आपराधिक प्रवृत्ति के प्रचार-प्रसार पर रोक लगाने हेतु Human Intelligence एवं Technical Intelligence के मध्य सामंजस्य बनाने पर जोर दिया गया।

वेबिनार के मुख्य वक्ता IIT, दिल्ली के प्रोफेसर पी.कुमारगुरू द्वारा सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म के सम्बन्ध में जानकारी देते हुए पुलिस के लिए इनके महत्व को समझाया गया। कुमारगुरू द्वारा सोशल मीडिया मॉनीटरिंग के विभिन्न टूल्स के सम्बन्ध में बताते हुए इनके प्राप्त होने वाले डाटा के विश्लेषण से पुलिस को होने वाले लाभ के सम्बन्ध में भी मार्गदर्शन दिया गया। पुलिस द्वारा अपराधों के अन्वेषण तथा कानून एवं शांति व्यवस्था के प्रकरणों से निपटने हेतु उपयोग में लाई जा रही पारंपरिक शैली के साथ-साथ सोशल मीडिया को भी अभिसूचना संकलन एवं पुलिस के अन्य कार्यों हेतु प्रयोग में लाए जाने की महत्ता बताई गई।

कार्यक्रम का संचालन ए.पी.अंशुमन, पुलिस महानिरीक्षक, अभिसूचना एवं सुरक्षा द्वारा किया गया। उनके द्वारा सोशल मीडिया से उत्पन्न हो रही चुनौतियों से निपटने हेतु पुलिस बल को सुदृढ़ किए जाने की बात कही गई।

उक्त सेमिनार में श्रीमती विमला गुंज्याल पुलिस उपमहानिरीक्षक अभिसूचना, करन सिंह नगन्याल पुलिस उपमहानिरीक्षक सुरक्षा, श्रीमती निवेदिता कुकरेती पुलिस अधीक्षक अभिसूचना, श्रीमती जया बलूनी अपर पुलिस अधीक्षक क्राईम के अतिरिक्त पुलिस मुख्यालय, अभिसूचना मुख्यालय, एसटीएफ, DITAC, स्पेशल ब्रांच, एलआईयू, जनपदों के सोशल मीडिया सैल तथा जनपद पुलिस के क्षेत्राधिकारियों सहित लगभग सौ लोग मौजूद रहे।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top