सन्त रविदास के विचारों को जीवन मे आज के संदर्भ में उतारने की जरूरत…कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह

/center>

उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने सन्त रविदास की जयन्ती के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई एवं शुभकामनायें दी है। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में सन्त सविदास जयन्ती के अवसर पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सन्त रविदास का स्मरण करते हुए उन्हें भावभीनी श्रद्वाजंलि अर्पित कर सत-सत नमन किया। इस अवसर पर प्रदेश निवर्तमान प्रवक्ता डाॅ.आरपी रतूड़ी ने कहा कि सन्त रविदास जी का भारत के समाज सुधारक के रूप में महत्पूर्ण योगदान रहा है, उन्होने हमेशा सामाजिक एकता एवं भाई चारे का संदेश दिया है हमें उनके बताये हुए मार्ग पर चलने का संकल्प लेना चाहिए तथा छुआछूत, वर्गभेद की भावनाओं से उपर उठकर सर्व समाज की मजबूती एवं उत्तराखण्ड की सर्वागीण विकास की बात करनी चाहिए।
लालचन्द शर्मा ने कहा कि सन्त रविदास का मूर्तिपूजा, तीर्थयात्रा जैसे दिखावों में बिल्कुल भी विश्वास नही था। वह व्यक्ति की आन्तरिक भावनाओं और आपसी भाईचारे को ही सच्चा धर्म मानते थे। उन्होंने अपनी काब्य-रचनाओं में सरल, व्यावहारिक ब्रजभाषा का प्रयोग किया है, जिसमें अवधी, राजस्थानी, खडी बोली और उर्दू- फारसी के शब्दों का भी मिश्रण है। उन्होंने कहा कि सन्त रविदास जी को उपमा और रूपक अलंकार विशेष प्रिय रहे हैं। उन्होंने सदैव ऊॅच-नीच की भावना तथा ईश्वर-भक्ति के नाम पर किये जाने वाले विवाद को सारहीन तथा निरर्थक बताया और सबको परस्पर मिलजुल कर प्रेम पूर्वक रहने का उपदेश दिया।
इस अवसर पर प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकान्त धस्माना, डाॅ. आर.पी. रतूड़ी, महानगर अध्यक्ष लालचन्द शर्मा, जिलाध्यक्ष संजय किशोर, महानगर महिला कांग्रेस की अध्यक्ष कमलेश रमन, भरत शर्मा, मोहन काला, महेश जोशी, श्रवण कुमार राजोरिया, अंकित उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.