Breaking News
Home / उत्तराखंड / सुप्रीम कोर्ट के पदोन्नति में आरक्षण को लेकर मशाल जुलूस उत्तराखण्ड की राजधानी में
सुप्रीम कोर्ट के पदोन्नति में आरक्षण को लेकर मशाल जुलूस उत्तराखण्ड की राजधानी में

सुप्रीम कोर्ट के पदोन्नति में आरक्षण को लेकर मशाल जुलूस उत्तराखण्ड की राजधानी में

देहरादुन
सामान्य व ओ बी सी एम्प्लाइज एसोसिएश एवं अखिल भारतीय समानता मंच के आवाहन पर मशाल जलूस पदोन्नति मेँ आरक्षण बंद करने व सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का पालन करने को लेकर मशाल जुलूस मेँ कई अनेक संस्था व संगठनों को साथ ही उत्तराखण्ड राज्य आन्दोलनकारी मंच ने भी अपनी भागीदारी की। मंच के जिला अध्यक्ष अध्यक्ष ने कहा कि सरकार आरक्षण का पालन पूरी तरह से शिक्षा व नौकरी आदि व्यवस्था मेँ ईमानदारी से लागू करेँ परन्तु पदोन्नति व प्रमोशन करने के लिए वरिष्ठता/सीनियरटी के आधार पर ही करना चाहिए।
जिला अध्यक्ष प्रदीप कुक्ररेती ने कहा कि उत्तराखण्ड सरकार वोट बेंक की खातिर गंदी राजनीति से बाहर निकले साथ ही वह कानूनों का पालन अपनें हिसाब से ना करेँ कहीं ना कहीं वह न्यायालय के आदेशों की अनदेखी कर रही है़।
मशाल जलूस कूच की भागीदारी मेँ उत्तराखण्ड राज्य आन्दोलनकारी मंच की ओर से मुख्यतः प्रदेश महा सचिव रामलाल खंडूड़ी , जिला अध्यक्ष प्रदीप कुकरेती , रविन्द्र सोलंकी , प्रमोद पंत , तुलाराम बड्वाल , उमाशंकर गौतम , धनंजय घिल्डियाल , राजेश पान्थरी , प्रेम सिंह नेगी , धनंजय घिल्डियाल , राकेश मठपाल , प्रमोद पंत , जीत पाल बार्थवाल , पूर्ण सिंह लिंगवाल , विनोद असवाल , नरेश नेगी। रविन्द्र सोलंकी। धर्म पाल रावत। विनोद असवाल , प्रभात डंडरियाल , राम भरोसा भट्ट , राजेश पांथरी , मोहन थापा , वीरेंद्र रावत , मनमोहन नेगी , गढ़वाल सभा अध्यक्ष रोशन धस्माना व महासचिव भंडारी महासचिव , यशवंत रावत पुष्कर बहुगुणा , सुनील ध्यानी, डी के पाल , पुष्कर नेगी , पुष्कर बहुगुणा , आदि थे।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top