प्रबुद्ध सम्मेलन में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने NRC के सम्बंध में दिए लोगो को जवाब

/center>

प्रबुद्ध सम्मेलन में नागरिकों ने पूछे नगर विकास मंत्री से सवाल
देहरादून
नागरिकता संशोधन अधिनियम के जागरुकता अभियान के अंतर्गत आज देहरादून के नागरिकों ने नगर विकास मंत्री मदन कौशिक से जमकर सवाल पूछे
इंजीनियर शमीम अहमद ने पूछा कि सरकार एवं भाजपा अल्पसंख्यक के बीच फैल रहे भ्रम को किस तरह दूर कर रही है यह भ्रम बढ़ता ही जा रहा है और इस भ्रम से समाज में डर पैदा हो रहा है
इंजीनियर समीम अहमद को मदन कौशिक ने बताया कि इसी के लिए हम लगातार जन जागरूकता अभियान चला रहे हैं और जो लोग 2002 से मोदी का विरोध कर रहे हैं उन्हीं के षड्यंत्र से समाज को बचाने की आवश्यकता है
प्रतिष्ठित व्यवसाई अशोक विंडलास के एन आर सी पर पूछे सवाल के जवाब में शहरी विकास मंत्री ने कहा कि अभी एनआरसी की कोई प्रक्रिया किसी भी रूप में प्रारंभ नहीं हुई है इसका एक काल्पनिक डर लोगों के दिलों में बैठाया जा रहा है केवल असम में एनआरसी हुई वह भी सुप्रीम कोर्ट के निर्देश से सरकार का अभी इस और कोई कार्यक्रम नहीं है ।शहरी विकास मंत्री ने दून वासियों के कई प्रश्नों के उत्तर दिए।
देहरादून के प्रबुद्ध जनों को संबोधित करते हुए मदन कौशिक ने कहा कि नागरिकता संशोधन अधिनियम की पृष्ठभूमि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का दोनों देशों के अल्पसंख्यकों को दिया वचन एवं नेहरू लियाकत समझौता है और गांधी से गहलोत तक सभी ने कभी ना कभी इस विषय को उठाया है चाहे वह डॉक्टर मनमोहन सिंह हो या देश के अन्य शीर्ष नेता।
कौशिक ने कहा लोकसभा में कई घंटों की चर्चा के बाद विपक्ष की उपस्थिति में यह अधिनियम बना है जिसमें देश के सभी राजनीतिक दलों ने भाग लिया इसके बाद भी कुछ राज्यों द्वारा कहा जा रहा है कि वह इसे लागू नहीं करेंगे जबकि राज्य का विषय ही नहीं है यह केंद्र सरकार का विषय है राज्य को इसे लागू करना ही होगा।
जामिया मिलिया इस्लामिया जेएनयू एवं अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इन तीन विश्वविद्यालयों के कुछ लोगों को को छोड़ दें तो देश के बाकी सभी विश्वविद्यालय सरकार और देश के साथ हैं।
उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक को को कानून से इंसाफ नहीं मिलता यदि मिलता तो इस अधिनियम की आवश्यकता ही नहीं पड़ती वहां से आए शरणार्थी पाकिस्तान वापस जाने से बेहतर जेल जाना समझते हैं उनके अनुसार यहां की जेल भी बेहतर है ऐसे में हमारा कर्तव्य है कि हम ना सिर्फ उन्हें नागरिकता दें वरन उनका सम्मान एवं रोजगार की व्यवस्था भी करें।
कौशिक ने कहा कि पाकिस्तान के टैक्सपेयर अल्पसंख्यक आज हिंदुस्तान में रिक्शा चलाकर अपना परिवार पालने को मजबूर है उन्होंने हरिद्वार के ऐसे एक परिवार का उदाहरण देते मदन कौशिक ने कहा कि जो चेहरे और जो संस्थाएं आज इस अधिनियम के विरोध में दिखाई दे रही है यदि ध्यान से देखेंगे तो 2002 से यह सब लोग मोदी का विरोध कर रहे हैं इनकी उम्मीद से हटकर केंद्र सरकार ने धारा 370 तीन तलाक पर निर्णय ले लिया और देश में कोई बवाल नहीं हुआ यहां तक कि सुप्रीम कोर्ट से राम मंदिरके वाद का निर्णय भी आ गया और देश के नागरिकों ने इन निर्णयों को खुले मन से स्वीकारा।
बस यही इन विरोधियों की कुंठा है जिसके कारण यह लोग अधिनियम का विरोध कर रहे हैं।
रवि प्रकाश अरोड़ा रिटायर्ड आईएएस उद्योगपति अशोक बिड़लास, रमेश बता राकेश बता रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के महेश भंडारी आईआईए के पंकज गुप्ता अनिल मारवा सुमित अदलखा एडवोकेट शैलबाला नेगी अरविंद जैन इंजीनियर शमीम अहमद रिटायर्ड पुलिस अधीक्षक जगराम सिंह गढ़वाल सभा के रोशन धस्माना सर्वे ऑफ इंडिया की नरेंद्र सिंह रावत धर्मपाल सिंह चौहान सेवानिवृत्त प्रधानाध्यापक सूबेदार मेजर बांदर सिंह रावत श्रीमती रमा गोयल हरसिल फाउंडेशन एवं संस्कृति के एसपी सिंह के साथ भाजपा के अजय कुमार गणेश जोशी सीताराम भट्ट पुनीत मित्तल अनिल गोयल विश्वास डाबर विनय गोयल राजीव उनियाल सहित देहरादून के सैकड़ों प्रबुद्ध नागरिक उपस्थित रहे
कार्यक्रम का संचालन विनय गोयल ने किया कार्यक्रम राष्ट्रगान के साथ समाप्त हुआ

Leave a Reply

Your email address will not be published.