Breaking News
Home / उत्तराखंड / कोरोना से लड़कर वापस लौटे सीएम त्रिवेंद्र फॉर्म में दिखे ,1200 नर्सिंग बेरोजगारों के मानक में संशोधन
कोरोना से लड़कर वापस लौटे सीएम त्रिवेंद्र फॉर्म में दिखे ,1200 नर्सिंग बेरोजगारों के मानक में संशोधन

कोरोना से लड़कर वापस लौटे सीएम त्रिवेंद्र फॉर्म में दिखे ,1200 नर्सिंग बेरोजगारों के मानक में संशोधन

देहरादून

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आज से पुनः कामकाज शुरू करते ही बेरोजगारों का उद्धार करने का काम किया है।

बताते चलें कि सीएम त्रिवेन्द्र कोरोना पॉजीटिव होने के बाद आगे की जांच हेतु एम्स दिल्ली में भर्ती हुये थे। उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आने एवं अपना आइसोलेशन पीरियड पूरा करने के बाद मंगलवार से दिल्ली स्थित आवास से उन्होंने शासकीय कार्यों का निस्तारण शुरू कर दिया।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत काम शुरू करते ही फॉर्म में दिख रहे हैं। उन्होंने नर्सिंग की भर्ती में मानकों में संशोधन के निर्देश जारी कर दिए हैं। मुख्यमंत्री ने नर्सिंग प्रशिक्षित बेरोजगार युवाओं के ज्ञापन का संज्ञान लेकर सचिव स्वास्थ्य को निर्देश दिए कि आवश्यक संशोधन का प्रस्ताव तैयार कर शीघ्र आगामी कैबिनेट में लाया जाए। जिससे नर्सिंग की भर्ती में मानकों में आवश्यक संशोधन किया जा सके और ज्यादा से ज्यादा नर्सिंग प्रशिक्षित युवा उसमें शामिल हो सकें।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के निर्देश के बाद राज्य में 1200 से ज्यादा पदों पर नर्सिंग स्टाफ की भर्ती होने जा रही है। लेकिन भर्ती के लिए 30 बेड के अस्पताल से एक साल के अनुभव और फार्म 16 की अनिवार्यता के कारण कई नर्सिंग प्रशिक्षित युवा इस भाग लेने से वंचित हो रहे थे। इस पर नर्सिंग प्रशिक्षित बेरोजगार युवाओं ने मुख्यमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन देकर मानकों में ढील देने की मांग की थी। जिससे अधिक से अधिक नर्सिंग प्रशिक्षित युवा इसमें भाग ले सकें।

कोरोना को हराकर आज से काम काज शुरू करते ही मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पहला निर्णय नर्सिंग भर्ती के मानकों में संशोधन का लिया। नर्सिंग बेरोजगार संगठन की ओर से दिए ज्ञापन का संज्ञान लेकर मुख्यमंत्री ने सचिव स्वास्थ्य को निर्देश दिए कि 30 बेड के अस्पताल में एक साल के अनुभव की शर्त को हटा दिया जाए।

सचिव स्वास्थ्य अमित नेगी ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश के अनुसार नर्सिंग भर्ती के लिए अब 30 बेड के अस्पताल में एक साल के अनुभव की शर्त को हटाया जाएगा। इसके लिए प्रस्ताव तैयार कर कैबिनेट के सम्मुख रखेंगे। इस संशोधन के बाद फार्म 16 की अनिवार्यता भी स्वत ही खत्म हो जाएगी। साथ ही 30 बेड के अस्पताल में एक साल के अनुभव की शर्त भी हट जाएगी। कैबिनेट निर्णय के बाद नर्सिंग प्रशिक्षित बेरोजगार इसके लिए नर्सिंग भर्ती के लिए पात्र हो जाएंगे।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top