जन संवाद समिति उत्तराखंड द्वारा आयोजित व्याख्यान एवम समारोह संपन्न

देहरादून

जन संवाद समिति उत्तराखंड की ओर से प्रेस क्लब में आयोजित सम्मान एवं व्याख्यान समारोह आयोजन किया गया।

इस मौके पर ‘मौजूदा परिपेक्ष्य में कॉ. बच्चीराम कौंसवाल की प्रासंगिकता’ विषय पर एक व्याख्यान आयोजित किया गया।

मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए वरिष्ठ पत्रकार जयसिंह रावत ने कॉ. कंसवाल को जन संघर्षों का पुरोधा, निष्पक्ष पत्रकार और योग्य शिक्षक बताया। उन्होंने कहा कि आज के दौर में जब आम लोगों के संवैधानिक अधिकारों को कुचला जा रहा है, समाज में वैमनस्य फैलाने का प्रयास किया जा रहा है और घृणा का वातावरण तैयार किया जा रहा है, ऐसे में कॉ. कौंसवाल के विचार हमें एक राह दिखाते हैं।

वरिष्ठ कवि, लेखक और पत्रकार सोमवारी लाल उनियाल ने कहा कि कॉ. कौंसवाल की पुण्यतिथि पर इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन एक महत्वपूर्ण पहल है।

सीपीआई नेता समर भंडारी ने कहा कि कॉ. बच्चीराम कौंसवाल जानते थे कि मौजूदा दौर में हमें साम्प्रदायिक ताकतों के साथ लड़ने के लिए सिर्फ राजनीतिक ही नहीं, बल्कि सांस्कृतिक मोर्चे की भी जरूरत है। इसीलिए उन्होंने जन संवाद समिति का गठन किया।

सीपीएम नेता शिव प्रसाद देवली ने पत्रकारिता के मौजूदा दौर को निराशाजनक बताया और कहा कि आज पत्रकारिता का अर्थ सत्ता का स्तुतिगान हो गया है, यह बेहद खतरनाक है।

त्रिलोचन भट्ट ने कहा कि मीडिया कर्मियों पर मालिकान की ओर से कई तरह के दबाव होते हैं, फिर भी जनपक्षीय सोच रखने वाले पत्रकारों को किसी न किसी रूप में जनता के पक्ष में खड़ा जरूर होना चाहिए। उन्होंने कहा कि सत्ता प्रतिष्ठान आज हमारे सभी अधिकारों को छीनना चाहता है।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड सरकार रोजगार और भू-कानून जैसे मुद्दों पर बुरी तरह से घिरी हुई है।

समारोह की अध्यक्षता करते हुए सुरेन्द्र सिंह सजवाण ने कॉ. कौंसवाल के जन संघर्षों और समाज के लिए उनके समर्पण को याद किया।

इस अवसर पर स्वतंत्र पत्रकार त्रिलोचन भट्ट को स्मृति चिन्ह, शॉल और 11 हजार रुपये नकद देकर सम्मानित किया गया।

उन्हें यह सम्मान स्व. बच्चीराम कौंसवाल की धर्मपत्नी जगदेश्वरी कौंसवाल, वरिष्ठ कवि व लेखक सोमवारी लाल उनियाल, वरिष्ठ पत्रकार जयसिंह रावत और सीपीएम नेता कॉ. सुरेन्द्र सिंह सजवाण ने प्रदान किया।

जन संवाद समिति के सचिव सतीश धौलाखंडी ने कहा कि यह सम्मान हर दो साल में दिया जाएगा।

अगली बार से पत्रकारिता के अलावा साहित्य, जनसंघर्ष और रंगमंच के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले एक-एक व्यक्ति को भी सम्मानित किया जाएगा। कार्यक्रम का संचालन कमलेश खंतवाल ने किया।

इस मौके पर गीता गैरोला, निर्मला बिष्ट, विजय गौड़, डॉ. जितेन्द्र भारती, प्रमोद कौंसवाल, हिमांशु चौहान, शैलेन्द्र परमार, राकेश अग्रवाल, जगमोहन मेहंदीरत्ता, अखिलेश उनियाल, इंद्रेश नौटियाल, स्वाति नेगी, संजय कोठियाल, राजेन्द्र पुरोहित, अनंत आकाश, लेखराज, एनएस पंवार, विनोद खंडूरी, मदन मोहन कौंसवाल, नमन कौंसवाल, अर्जुन रावत, जबर सिंह पावेल, प्रो. राजेश पाल, नन्दलाल शर्मा, हरिओम पाली, किशन गुनियाल, मामचंद, राजेश सकलानी, राकेश पंत, अरिजेन्द्र सिंह, नवनीत गोसाईं, पंकज कौंसवाल, शोभा कौंसवाल, संजीव घिल्डियाल, गजेन्द्र बहुगुणा सहित कई लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.