यूपी,उत्तराखंड की पुलिस 3 टुकड़ों में मिली लाश के फेर में अटकी,उज्जैन से ऋषिकेश पहुंची ट्रेन में महिला के कटे हाथ-पैर मिले, धड़ मिल चुका पहले ही उज्जैन पुलिस को

देहरादून/ऋषिकेश

मध्य प्रदेश और उत्तराखंड पुलिस विभाग में इन दिनों हड़कंप मचा हुआ है, क्योंकि दो राज्यों के बीच चलने वाली 3 ट्रेनों में महिला के शव के टुकड़े 3 हिस्सों में मिले हैं। मामला ब्लाइंड मर्डर का है। फिलहाल इस मामले में दोनो राज्यों की पुलिस को कोई सुराग नहीं मिल पाया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मध्य प्रदेश के उज्जैन से उत्तराखंड की योग नगरी ऋषिकेश पहुँचने वाली ट्रेन उज्जैन एक्सप्रेस में एक महिला के कटे हुए हाथ और पैर मिले हैं। यात्रियों को ट्रेन की एक बोगी में लावारिस प्लास्टिक का कट्टा रखा मिला, जिस पर रेलेवे को की गई शिकायत के बाद पहुंची पुलिस ने कट्टा खोला तो उसके होश उड़ गए।

उस कट्टे में महिला के कटे हाथ और पैर रखे हुए थे जिनको पॉलिथिन से बांधा गया था। RPF और GRP ने लाश के टुकड़ों को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। फिलहाल इंदौर पुलिस से संपर्क किया गया है।

मध्य प्रदेश की इंदौर पुलिस को उज्जैन एक्सप्रेस में मिले कटे हाथ-पैर उस महिला के होने का शक है, जिसकी लाश 3 टुकड़ों में शनिवार और रविवार को महू-नागदा पैसेंजर ट्रेन और देहरादून एक्सप्रेस में मिली थी। इस तरह 3 ट्रेनों में एक महिला के शरीर के टुकड़े मिलने से दोनों राज्यों की पुलिस में हड़कंप मचा हुआ है।

RPF सब इंस्पेक्टर गायत्री देवी और GRP सब इंस्पेक्टर आनंद गिरी के अनुसार, सोमवार शाम करीब 6 बजे उज्जैन एक्सप्रेस ऋषिकेश पहुंची। पैसेंजरों ने ट्रेन में टॉयलेट के पास एक काले रंग का कट्टा देखा गया, जिससे काफी दुर्गंध आ रही थी। स्टेशन मास्टर को जानकारी दी गई तो उसने पुलिस को बताया। GRP पुलिस टीम ने कट्टा कब्जे में लेकर उसे खोला तो उनके होश उड़ गए। क्योंकि ट्रेन उज्जैन से आई थी। वहां की पुलिस को जानकारी देने पर पता चला कि रविवार शाम को देहरादून एक्सप्रेस में भी वहां एक महिला के शव के टुकड़े मिले थे।

इससे पहले शनिवार को इंदौर रेलवे स्टेशन के यार्ड में खड़ी महू-नागदा पैसेंजर ट्रेन में महिला धड़ मिल चुका था। कमर के नीचे का हिस्सा और हाथ गायब थे। कमर के नीचे का हिस्सा देहरादून एक्सप्रेस में मिला। हाथ-पैर उज्जैन एक्सप्रेस में मिलने से पुलिस को शक है कि यह सारे टुकड़े एक ही महिला की लाश के हैं। शनिवार-रविवार को जिन ट्रेनों में टुकड़े मिले, वह ट्रेनें लक्ष्मीबाई रेलवे स्टेशन से निकली थीं। ऐसे में पुलिस की जांच अब इंदौर के लक्ष्मीबाई एरिया में चल रही है।

GRP टीआई संजय शुक्ला के अनुसार, शनिवार-रविवार को जिन 2 ट्रेनों में महिला के शरीर के हिस्से मिले हैं, वे दोनों ट्रेनें लक्ष्मीबाई नगर स्टेशन से निकलती हैं। इसलिए माना जा सकता है कि दोपहर में हाथ और पैर उज्जैन एक्सप्रेस में रखे गए होंगे। इसके बाद रात में नागदा से महू होते हुए इंदौर आने वाली पैसेंजर ट्रेन में शव के 2 टुकड़े रखे होंगे। दोनों ट्रेनों में यहीं से शव के टुकड़ों को 3 अलग-अलग पार्सलो में रखा गया होगा। पोस्टमॉर्टम में पता चला कि हाथ पर गुजराती भाषा में आम बोलचाल में बोले जाने वाले शब्द मीरा बेन, गोपाल भाई लिखा हुआ है। महिला संभवतः गुजराती हो सकती है।

ऐसे में पुलिस की एक टीम मेघनगर से झाबुआ-आलीराजपुर गोधरा के बीच वाले इलाके में सर्च ऑपरेशन चला रही है। इस इलाके में पिछले एक महीने में लापता हुई महिलाओं की जानकारी निकाली जा रही है। वहीं पूरी बॉडी पर किसी प्रकार के कपड़े नहीं हैं। माथे पर बिंदी,गले में काले धागे में सेफ्टी पिन जरूर मिली है।

संभवतः खून बहने से रोकने के लिए ही शरीर के टुकड़ों पर पॉलिथीन बांधा गया है। पूरी लाश 2 से 3 दिन पुरानी लग रही है। दोनों राज्यों की पुलिस ब्लाइंड मर्डर खोलने के लिए रेलवे स्टेशनों और रास्ते में लगे CCTV कैमरे खंगाल रही है।

जानकारी के अनुसार इंदौर की पुलिस ने रविवार को शव का पोस्टमॉर्टम कराया। हत्यारे ने महिला के शव का चेहरा नहीं बिगाड़ा है, लेकिन ठोड़ी पर चोट का निशान और सिर पर भी वार करने का निशान मिला है। शव को किसी तेज धारदार हथियार से काटा गया है। शव के सभी भाग मिल चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.