Breaking News
Home / Featured / शिव रात्रि आध्यामिक पर्वों में सर्वश्रेष्ठ …मीना दीदी
शिव रात्रि आध्यामिक पर्वों में सर्वश्रेष्ठ …मीना दीदी

शिव रात्रि आध्यामिक पर्वों में सर्वश्रेष्ठ …मीना दीदी

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय देहरादून के मुख्य सेवाकेन्द्र सुभाषनगर मे 84 वीं त्रिमूर्ती शिव जयन्ती के उपलक्ष्य में सर्व धर्म सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस अवसर पर राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी मीना दीदी ने कहा की शिव जयन्ती अथवा शिवरात्रि पर अन्य अध्यात्मिक पर्वो की तुलना मे सबसे श्रेष्ठ है। इस तथ्य का कारण यह है कि यह पर्व मनुष्य की सदगति से जुड़ा हुआ है। परमात्मा शिव जब कलयुग की अधर्म, अज्ञान और विकार की रात्रि मे अवतरित हो कर के व्यक्ति को धर्मयुक्त, ज्ञानवान और र्निविकारी बनाने का अपना दिव्य आलौकिक कार्य करते है। तो फलस्वरूप हम इस धरती के वासी उनके इस परम उपकार के बदले उनका दिव्य जन्म शिवरात्रि के रूप मे मनाते है। शिव का अर्थ कल्याणकारी होता है तथा रात्रि शब्द व्यक्ति के आन्तिरिक दोषो का प्रतीक है। दोनो शब्दो का जोड़ यह स्पष्ट करता है कि परमपिता परमात्मा शिव मनुष्यो की बुराईयो और दोषो को नष्ट कर उनका कल्याण करते है। आचार्य डा. धनजंय ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा की सर्व धर्म ही धारणा है जो हम धारण करते है उसे धर्म कहा जाता है। हमे प्रेरणा मिलती हो। खूशी मिलती हो। हम अपने कर्मों के माध्यम से अपने जीवन को सुखमय बना सकते है। कर्म करो पर कर्म मे कभी लिप्त नही होना है। डा स्वाती मिश्रा ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा की धर्म अर्थात् जो आप धारण करते है। क्या धारण करते है जो हम सोचते है अर्थात् अपने विचार धारण करते है। विचार दो प्रकार के होते है नेगेटिव और पाॅजिटिव, पाॅजिटिव विचारो से हमे प्यार मिलता है, खूशी मिलती है। श्रेष्ठ बनने के लिए हमे सिर्फ अपनी सोच को अच्छा रखना है हर धर्म यही कहता है की अच्छा सोचो, अच्छा बोलो और अच्छे कर्म करो। आप खूशी बाॅटिये शान्ती तो अपने आप ही आएगी। डा कुलविंदर सिंह ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा की साधना घर मे रहकर की जा सकती है। जैसे कमल कीचड़ मे रहकर भी उसकी डण्डी कीचड़ से परे रहती है ऐसे हमे भी संसार मे कमल फूल के समान रहना है।
रेवरेण्ड फादर फास्तिन जाँन पिन्टो ने कहा आपने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा की संसार मे पीस, लव एवं हारमनी तभी हो सकती है। जब मनुष्य भगवान के साथ अपना सम्बन्ध जोड़ दे। सार्थक ने सभी का धन्यवाद किया ओर मंच संचालन बी.के.सुशील ने किया।
इस अवसर पर विजय रस्तोगी , नरेन्द्र थापा , राजकुमार जोशी, माला गुरूँग. ममता रस्तोगी. सरोजनी नेगी, विनिता वालिया, विजयलक्ष्मी इत्यादि उपस्थित थे।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top